वैज्ञानिकों ने एक ऐसा प्लास्टिक बनाया है जिसे आप जितनी बार चाहें रीसाइकिल कर सकते हैं। खास बात यह है कि इसके लिए किसी हानिकारक रसायन की भी जरूरत नहीं है।

 

इससे सालों तक जमीन और समुद्र में पड़े रहकर पर्यावरण को प्रदूषित करने वाले प्लास्टिक का निपटारा करने में आसानी होगी।

 

6अमेरिका की कोलोराडो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने प्लास्टिक की तरह हल्के, मजबूत, टिकाऊ और तापमान प्रतिरोधी पॉलीमर की खोज की है।

 

इससे बनाए गए प्लास्टिक को कितनी बार भी इसके वास्तविक अणु की अवस्था में बदलकर दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है।

 

आजकल पॉलीमर का प्रयोग प्लास्टिक, फाइबर, रबर, कोटिंग और अन्य व्यावसायिक उत्पाद बनाने में किया जाता है।

 

पुरानी पीढ़ी के पॉलीमर प्लास्टिक से काफी मुलायम होते थे और तापमान के प्रति उनकी प्रतिरोधी क्षमता भी कम होती थी। लेकिन नई पीढ़ी के इस पॉलीमर में ऐसी कोई दिक्कत नहीं है।

 

कमरे के तापमान पर और बहुत थोड़ी मात्रा में कैटेलिस्ट (उत्प्रेरक) का प्रयोग कर ही इससे प्लास्टिक बनाया जा सकता है।

 

वैज्ञानिकों का कहना है, “इससे ग्रीन प्लास्टिक यानी पर्यावरण के लिए सुरक्षित प्लास्टिक के निर्माण के रास्ते खुल जाएंगे।

 

सालों तक जमीन और समुद्र में पड़े रहे प्लास्टिक को आसानी से डी-पॉलीमराइज कर रीसाइकिल किया जा सकेगा। पेट्रोलियम से बने प्लास्टिक से यह संभव नहीं था।”

 

फिलहाल इसे लैब में बनाया गया है। बड़े पैमाने पर इसके उत्पादन के लिए अभी और शोध किया जाना बाकी है। शोधकर्ता चेन ने कहा, इस पॉलीमर से बने प्लास्टिक को बाजार में देखना हमारा सपना है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here